BusinessDelhi/NCR

Hello Taxi Ponzi scheme की डायरेक्टर डेज़ी मेनन को दिल्ली पुलिस ने ठगी के आरोप में गिरफ्तार किया

1000 लोगों से 250 करोड़ रूपए ठगने का आरोप लगा

Hello Taxi Ponzi scheme की डायरेक्टर (निदेशक) डेज़ी मेनन को दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने लोगों को ठगने के आरोप में गोवा से हाल ही में गिरफ्तार कर लिया है| बता दें महिला एम/एस एसएमपी इम्पेक्स प्राइवेट लिमिटेड कंपनी की डायरेक्टर थी और वो ‘हेलो टैक्सी’ नाम से एक स्कीम चला रही थी, जिसके जरिए टैक्सी में निवेश करने के नाम पर करीब 1000 लोगों से 250 करोड़ की ठगी की गई थी| कंपनी में पैसा लगवाकर वो पिछले एक साल से फरार चल रही थी| जिसके बाद निवेशकों ने पुलिस से शिकायत दर्ज करवाई और मामले की जाँच से कंपनी का काला चिट्ठा खुला|

करीब 1000 लोगों से 250 करोड़ की ठगी की गई

दिल्ली की आर्थिक अपराध शाखा के जॉइंट सीपी ओपी मिश्रा के मुताबिक कंपनी के लोगों की तरफ से कहा गया कि वो एप बेस्ड टैक्सी सर्विस ‘Hello Taxi’ शुरू कर रहे हैं और अगर इसमें कोई निवेश करेगा तो उसे मूल रकम का हर साल 200 प्रतिशत तक ब्याज वापस मिलेगा|

जिसके बाद करीबन 1000 से ज्यादा लोगों ने झांसे में आकर 250 करोड़ रुपये निवेश कर दिया, शुरुआत में तो कंपनी ने कुछ लोगों को पैसा वापस भी दिया लेकिन धीरे-धीरे एक बड़ी रकम इकट्ठा हो गया तो उन्होंने लोगों के कॉल्स का जवाब देना बंद कर दिया और कंपनी बंद करके भाग गए| साथ ही कंपनी पूरी तरीके से फ्रॉड थी क्योंकि कंपनी इन्वेस्टमेंट के लिए ना ही RBI और ना ही SEBI में रजिस्टर्ड थी|

फाइव-स्टार होटलों में इवेंट मीटिंग और सेमिनार आयोजित करते थे आरोपी

आगे ओपी मिश्रा ने कहा की आरोपी महिला के साथ इसकी कंपनी में और भी तीन पार्टनर थे, जो मिलकर ठगी का काम करते थे| आरोपियों ने फाइव-स्टार होटलों में इवेंट मीटिंग और सेमिनार आयोजित करके लोगों को बेवकूफ बनाया और अपने शिकार के चारों ओर एक झूठी आभा पैदा करने के लिए स्मार्ट और चालाक लोगों को नियुक्त किया|

यही नहीं कंपनी नए शिकार फंसाने के लिए बार-बार कंपनी की जगह को बदलती भी रहती थी| सबसे पहले इसको ग़ाज़ियाबाद में शुरू किया गया जिसके एक महीने बाद उसे पटपरगंज और फिर रोहिणी में शिफ्ट कर दिया गया|

Hello Taxi Ponzi scheme-

अन्य आरोपियों की तलाश कर रही पुलिस

बता दें 2019 में दर्ज एक पुलिस शिकायत के अनुसार कंपनी में महिला और चार सह-निदेशकों सरोज महापात्रा, राजेश महतो, सुंदर भाटी और हरीश भाटी ने ब्याज की उच्च दरों का वादा करने के बाद लोगों को धोखा दिया|

चार अन्य आरोपियों में शामिल राजेश महतो को इस साल 23 अगस्त को गिरफ्तार किया गया था| आखिरकार अंत में जाकर जब एसीपी नाहन कौशिक की अगुवाई वाली एक टीम ने आरोपी महिला की जानकारी ली जिसके बाद दिल्ली पुलिस ने डेजी मेनन को गोवा के एक आलीशान रेजॉर्ट से गिरफ्तार किया| हालाँकि पुलिस इस मामले में कंपनी से जुड़े सरोज महापात्रा, सुंदर भाटी और हरीश भाटी की तलाश कर रही है|

3.2 करोड़ रुपये से अधिक की रकम और 60 नई हुंडई Xcent कारें जब्त

पुलिस द्वारा जाँच के दौरान कंपनी के बैंक स्टेटमेंट की छानबीन की गई और 3.2 करोड़ रुपये से अधिक की रकम जमा की गई| इसके अलावा, ठगी गई राशि से खरीदी गई 3.5 करोड़ रुपये की 60 नई हुंडई Xcent कारें भी जब्त की गयी और 33 अन्य कारों की पहचान भी हुई है| साथ ही साथ डेज़ी मेनन की एक लक्जरी वॉल्वो कार भी जब्त कर ली गई है और उन्हें आगे की कार्यवाई के लिए अदालत में पेश किया गया है|

Related Articles

Back to top button
English English हिन्दी हिन्दी