Coronavirus Updates

WHO का चौकाने वाला बयान – विश्व में अब तक ऐसी कोई वैक्सीन नहीं बनी जो कोरोना से लड़ने में 50 फीसदी भी असरदार हो

विश्व स्वास्थ्य संगठन ( WHO) का कोरोना वैक्सीन पर बड़ा ऐलान। संगठन का यह कहना है कि 2021 तक भी बड़े स्तर पर कोरोना का टीकाकरण नहीं हो सकता।अभी तक दुनिया का वैक्सीन ट्रायल पूरा नहीं हुआ है। डॉ मारग्रेट हैरिस विश्व स्वास्थ्य संगठन(WHO )की प्रवक्ता हैं और इनका कहना है कि उम्मीद की जा सकती है कि वैक्सीन कम से कम 50 फीसदी तो असरदार होगी ही, साथ ही साथ उनका यह भी कहना है कि वैक्सीन लाखों लोगों तक पहुँच भी गई तब भी वह कितनी असरदार साबित होगी, यह मानकों का अभी पता नहीं है।

डॉ मारग्रेट का यह भी कहना है कि विश्व में कोरोना की वैक्सीन एडवांस स्टेज में क्लीनिकल ट्रायल पर चल रही है, अब तक इन वैक्सीन में से एक भी वैक्सीन 50 फीसदी तक असरदार साबित नहीं हुई है। महामारी के इस दौर में सभी वैक्सीन के आने का बेसब्री से इंतज़ार कर रहें हैं और ये ही उम्मीद कर रहे हैं कि वैक्सीन कम से कम 50 फीसदी तक तो असरदार साबित हो।

यह भी पढ़ें – भारत में बढ़ते कोरोना मामलों ने तोडा रिकॉर्ड , ब्राज़ील को पीछे छोड़ दूसरे नंबर पर जा पहुंचा भारत

तीसरे चरण के ट्रायल में काफी लम्बा समय लग सकता है

डॉ हैरिस के मुताबिक, रूस ने कोरोना की वैक्सीन बना कर उसका ट्रायल 2 महीने से कम समय में पूरा कर उसे approve भी कर दिया, जिसकी निंदा दुनिया भर के वैज्ञानिकों और दूसरे देशो के सरकारों ने की है | इसके अतिरिक्त अमेरिकी कंपनी फ़ाइज़र का यह कहना है कि उनकी वैक्सीन अक्टूबर महीने तक तैयार होजाएगी , जिसे बाद में फिर देश के नागरिकों तक पहुंचाया जाएगा |

कौन सी वैक्सीन मानकों पर खरी उतरेगी पता नहीं

डॉ मारग्रेट का कहना है कि इस समय दुनिया भर में जितने भी वैक्सीन के ट्रायल चल रहे हैं, इन सब को एक दूसरे के साथ उनके आंकड़ों और परिणामों को साझा करने की आवश्यकता है। जैसा कि आप सभी को पता है कि वैक्सीन का ट्रायल अभी तक लाखों लोगों पर किया जा चुका है किन्तु वैज्ञानिक अभी तक इस बात का पता नहीं लगा पा रहे हैं कि किश देश की वैक्सीन ज़्यादा असरदार होगी।

यह भी पढ़ें – भारत में अनलॉक 4.० की प्रक्रिया शुरू, मेट्रो शुरू करने की मिली मंजूरी , स्कूल और कॉलेज अभी भी रहेंगे बंद

 67 दिनों के बाद दिल्ली में कोरोना मामलो की रफ़्तार फिर से बढ़ी

Related Articles

Back to top button
English English हिन्दी हिन्दी