Coronavirus UpdatesDelhiDelhi/NCRIndia

कोरोना मामले में एक अच्छी खबर – राजधानी दिल्ली में अनेक सुविधाओं के साथ खुला देश का पहला पोस्ट कोविड क्लीनिक

जहा एक तरफ कोरोना के लगातार केस बढ़ रहे हैं वही दूसरी और रिकवरी रेट में भी बढ़ोत्तरी हुई है. लेकिन लोगो में ये डर भी लगातार बना हुआ है कि कोरोना ठीक होने के बाद भी अगर फिर से उसके लक्षण दिखाए दें तो क्या किया जाए क्योंकि कई मामलों में ये देखा गया है कि कई लोगो को ठीक होने के बाद भी सांस सम्बंधित समस्याएं हो रही हैं. इसके लिए राजधानी दिल्ली में पहले पोस्ट कोविड-19 सेंटर खुल गया है जहाँ पर कोरोना से ठीक हुए मरीजों की फिर से जांच की जाएगी जो कोरोना ठीक होने के बाद भी परेशानियों से जूझ रहे हैं.

आखिर क्या है ये पोस्ट कोविड क्लीनिक?

हाल ही में ये देखा जा रहा है कि कोरोना से ठीक हो जाने के बाद भी मरीजों जो कुछ शिकायतें हो रही हैं जिसमे सांस लेने, फेंफड़ों में सिकुड़न, ऑक्सीजन की कमी और बदन में दर्द जैसी दिक्कतें सामने आ रही थी लेकिन इनके इलाज़ के लिए मरीजों के लिए किसी भी प्रकार का क्लिनिक मौजूद नहीं था जिस से मरीजों में एक डर का माहौल बन गया है. इस तरह की परेशानी से जूझ रहे मरीजों की जांच के लिए, राजधानी दिल्ली में देश के पहले ‘पोस्ट कोविड क्लीनिक’ की शुरुआत हो रही है जो कि लोगों को इस तरह कि परेशानियों से निजात दिलाएगा.

पोस्ट कोविड क्लीनिक कहाँ पर खोला गया है और इसमें मरीजों को क्या क्या सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएँगी ?

राजधानी का पहला पोस्ट कोविड क्लीनिक उत्तर पूर्वी दिल्ली के राजीव गांधी सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल (Rajiv Gandhi Super Specialty Hospital) में  खोला गया है. ये अस्पताल दिल्ली का दूसरा बड़ा कोरोना अस्पताल है.

जहा एक बिल्डिंग में कोरोना के मरीजों का इलाज किया जा रहा है वही दूसरी बिल्डिंग जो कि इस से थोड़ी दूर है वहां पर

 कि शुरुआत की गयी है और इस बात का पूरी तरह से ध्यान रखा गया है कि कोरोना संक्रमण को फैलने से रोका जा सके.

अब बात करते हैं कि इस क्लिनिक में किस प्रकार कि सुविधाएं मरीजों को दी जाएँगी. यहाँ पर मुख्य तौर पर उन मरीजों की जांच की जाएगी जो हाल ही में कोरोना से पीड़ित रहे हैं और ठीक होने के बाद भी उनको सांस और फेफड़ो से सम्बन्धी परेशानियां हो रही हैं. उनकी जांच में ब्लड टेस्ट, सी टी स्कैन और एक्स रे जैसी सुविधाओं के साथ योगा और काउन्सलिंग भी शामिल हैं जिस से मरीजों को ठीक होने में अच्छी खासी मदद मिलेगी.

पूरे देश में कोरोना के अब तक पॉजिटिव मामले 29,79,562 हैं, वहीं दूसरी और अब तक 22,23,202 मरीजों का इलाज सफलतापूर्वक हो चूका है और जो मरीज अस्पताल में थे वो ठीक होकर घर जा चुके हैं. दुःख की खबर ये है कि कोरोना से इस जंग में 55,950 लोगों की मौत भी हो गई है और अगर देश में रिकवरी रेट की बात करें तो ये अब बढ़कर 74.69 प्रतिशत हो गया है जो कि देशवासियो के लिए एक अच्छी खबर है.

Related Articles

Back to top button
English English हिन्दी हिन्दी