Coronavirus UpdatesLifestyle

कोविड-19 वैक्सीन ट्रैकर: भारत में कोरोना वैक्सीन phase-3 के ट्रायल्स दोबारा शुरू, पुणे के Sasoon General Hospital में फिर शुरू किये क्लीनिकल ट्रायल्स

DGCI की permission मिलने के बाद सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडिया(SII) ने वैक्सीन ट्रायल्स को फिर से शुरू कराया

कोरोना का कहर दुनिया भर में बढ़ते ही जा रहा है और पूरा विश्व इस समय इस महामारी से परेशान है | भारत में कोरोना वायरस के हालात की बात करें तो देश में इसके cases लगातार बढ़ रहे हैं | हेल्थ मिनिस्ट्री के हाल ही की रिपोर्ट्स के मुताबिक देश में अब तक कुल 52,14,678 मामलों की पुष्टि हो चुकी है, जिसमें से 10,17,754 एक्टिव cases हैं | 41,12,552 लोग ठीक हो चुके हैं और 84,372 लोगों की मौत हो चुकी है | ऐसे में पूरा देश कोरोना वैक्सीन का इंतज़ार कर रहा है | बता दें कि अभी देश में वैक्सीन ट्रायल का Phase 3 चल रहा है, जिसमें ऑक्सफ़ोर्ड की वैक्सीन जिसे एस्ट्राजेनेका फार्मा कंपनी (AstraZeneca Pharmaceutical Company) मिलकर तैयार कर रही है, वो फेज-3 में सबसे आगे है | दूसरे पर भारत बायोटेक (Bharat Biotech) और तीसरे पर जायडस कैडला (Zydus Cadila) की वैक्सीन है |

यह भी पढ़ें – कोरोना का बढ़ता कहर, दिल्ली में 5 अक्टूबर तक बंद रहेंगे सारे स्कूल

वैक्सीन के ट्रायल को कुछ समय के लिए रोक दिया गया था

ऑक्सफ़ोर्ड-एस्ट्राजेनेका(AstraZeneca) वैक्सीन का ट्रायल भारत के अलावा ब्राज़ील, ब्रिटैन, अमेरिका और कई अन्य देशों में भी चल रहा है | डिजीसीआई(DGCI) से परमिशन मिलने के बाद सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडिया(SII) ने ऑक्सफ़ोर्ड वैक्सीन का क्लीनिकल ट्रायल फिर से शुरू कर दिया है, लेकिन बता दें कि हाल ही में ऑक्सफ़ोर्ड-एस्ट्राजेनेका(AstraZeneca) वैक्सीन के ट्रायल को कुछ समय के लिए रोक दिया गया था |

यह भी पढ़ें –  PM Cares Fund से 50 हज़ार वेंटिलेटर के लिए 893.93 करोड़ रूपए की धनराशि: स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन

एक मरीज को कुछ समस्या का सामना करना पड़ा था

सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडिया(SII) ने इसी वजह से इसके फेज-2 ट्रायल को जिसे भारती विद्यापीठ मेडिकल कॉलेज(Bharati Vidyapeeth Medical College) में और केईएम हॉस्पिटल(KEM hospital) में किया जा रहा था, कुछ समय के लिए रोक दिया गया था, क्योंकि ट्रायल के दौरान एक मरीज को कुछ समस्या का सामना करना पड़ा था | हालाँकि बाद में जब वैक्सीन को फिर से ट्रायल के लिए परमिशन मिल गयी तो भारत में भी 15 सितम्बर को डीजीसीआई(DGCI) द्वारा इस वैक्सीन को ट्रायल के लिए मंजूरी मिल गयी | ऑक्सफ़ोर्ड ने कहा था कि ट्रायल के दौरान कुछ लोगों को मामूली दिक्कतें होंगी, ऐसा मरीज के शरीर की वजह से भी होता है, फिर भी वो सुरक्षा का विशेष ध्यान रखते हुए trials फिर से शुरू करेंगे |

Phase-3 का क्लीनिकल ट्रायल पुणे के ससून जनरल हॉस्पिटल(Sasoon General Hospital) में फिर से शुरू किया

हाल ही में पता चला है कि ऑक्सफ़ोर्ड वैक्सीन के phase-3 का क्लीनिकल ट्रायल पुणे के ससून जनरल हॉस्पिटल में फिर से शुरू किया जा रहा है | हॉस्पिटल के डीन डॉक्टर मुरलीधर ताम्बे ने कहा है कि “कोविशील्ड (covi-shield) के फेज-3 का ट्रायल शुरू कर दिया गया है | इसके लिए 150 से 200 लोगों को यह वैक्सीन लगाया जायेगा” | बता दें कि अगर ये trials पूरी तरह से सफल होते हैं तो जल्द ही वैक्सीन की manufacturing चालू कर दी जाएगी, जिससे ये आम लोगों तक पहुंचाई जा सके | कुछ रिपोर्ट्स के अनुसार शायद 2020 के आखिर या 2021 के शुरू तक वैक्सीन आने की उम्मीद है |


Latest Coronavirus Updates:


Related Articles

Back to top button
English English हिन्दी हिन्दी