CareerEducation
Trending

22 सितंबर से शुरू होगी सीबीएसई 10वीं और 12वीं की कंपार्टमेंट परीक्षा, डेटशीट जारी

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने शुक्रवार (4 सितम्बर) को सुप्रीम कोर्ट को जानकारी दी कि सितम्बर के अंत तक 10वीं और 12वीं की कम्पार्टमेंट परीक्षाएँ कराई जा सकती हैं | बता दें CBSE कक्षा 10 में इस बार कुल 150198 और कक्षा 12 के कुल 87651 स्टूडेंट्स की कम्पार्टमेंट आयी है, इस कोरोना महामारी में कम्पार्टमेंट परीक्षा कराने के खिलाफ़ हाल ही में सुप्रीम कोर्ट में याचिका भी डाली गयी थी कि कोरोना महामारी में पूरी सुरक्षा के साथ कम्पार्टमेंट परीक्षाएँ कराना असंभव सा है| JEE और NEET की तरह कम्पार्टमेंट परीक्षा का भी विरोध किया जा रहा है और परीक्षा रद्द करने की मांग की जा रही है , लेकिन सीबीएसई ने पहले ही साफ़ कर दिया है कि ये परीक्षाएँ कराना अनिवार्य है ऐसा न होने पर बच्चों का भविष्य संकट में आ जायेगा क्योंकि सभी कॉलेज के एडमिशन प्रक्रिया अब लगभग ख़त्म ही होने वाली हैं|

अगली सुनवाई 10 सितम्बर को

परीक्षा रद्द करने की याचिका की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट के तीन जजों की बेंच सुनवाई कर रही है और छात्रों की याचिका पर कोर्ट ने बोर्ड को नोटिस भी जारी किया है कि बोर्ड 7 सितम्बर तक जवाब और हलफनामा दाखिल कर दे | आगे कोर्ट ने बोर्ड पर यह सवाल भी उठाया की इस महामारी में बोर्ड किस तरह से परीक्षा आयोजित कराना चाहता है और बोर्ड अपने बच्चों के सुरक्षा के लिए क्या व्ययस्थायें करेगी | सुप्रीम कोर्ट ने मामले की अगली सुनवाई 10 सितम्बर को करने के लिए कहा है |

 

प्रोटोकॉल्स को फॉलो करते हुए परीक्षा कराई जाएँगी

बता दें सीबीएसई बोर्ड ने हाल ही में बताया हैं कि कोरोना महामारी को मद्दे नजर रखते हुए सभी प्रोटोकॉल्स को फॉलो करते हुए परीक्षा कराई जाएँगी और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के लिए पिछले बार के 474 परीक्षा केंद्रों के मुकाबले इस बार परीक्षा केंद्रों को बढाकर 1,248 कर दिया गया है | सीबीएसई ने यह बात तब कही जब उच्चतम न्यायालय परीक्षा रद्द कराने की याचिका पर सुनवाई कर रही थी | बोर्ड ने यह भी साफ़ कह दिया है कि कक्षाओं में भी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जाना अनिवार्य होगा, ऐसे में जिस कक्षाओं में 40 बच्चे बैठते थे उसमें अब सिर्फ 12 बच्चे ही परीक्षा देंगे |

यह भी पढ़ें – नहीं टलेगी जेईई-नीट परीक्षा, रोक के लिए SC में दायर पुनर्विचार याचिका खारिज

हाल ही में सीबीएसई ने अपनी वेबसाइट पर एक नोटिस भी जारी किया था, जिसमें बताया गया था कि ’25 जून 2020 को सुप्रीम कोर्ट में दिए गए शपथपत्र में कहा कि 1 से 15 जुलाई 2020 तक के शेड्यूल परीक्षाओं में इंटरनल असेसमेंट स्कीम के तहत मार्किंग कर रिजल्ट घोषित किये गए हैं | इस रिजल्ट से जो छात्र संतुष्ट नहीं हैं,उन्हें बोर्ड इम्प्रूवमेंट परीक्षा में शामिल होकर अंक बढ़ाने का मौका देगी तथा इस इम्प्रूवमेंट परीक्षा में मिले अंकों को ही फाइनल माना जायेगा|

 

10वीं कि परीक्षा 22 सितम्बर से और 12वीं कि परीक्षा 22 सितम्बर से शुरू होंगी 

कुछ रिपोर्ट्स के अनुसार इस बार कक्षा 10वीं और 12वीं को मिलाकर सीबीएसई के कुल 2,37,849 बच्चें कम्पार्टमेंट की श्रेणी में हैं | हालांकि बोर्ड ने यह भी साफ़-साफ़ कह दिया है कि बच्चों को ग्रेस मार्क्स देकर पास नहीं किया जायेगा, पास होने के लिए जो बच्चें एक या दो विषयों में फेल हैं उन्हें परीक्षा देनी ही पड़ेगी | सीबीएसई ने हाल ही में परीक्षाओं के डेटशीट्स भी जारी कर दिए हैं जिसके अनुसार 10वीं की परीक्षा 22 सितम्बर से शुरू होंगी और 28 सितम्बर तक चलेगी और 12वीं की परीक्षा 22 सितम्बर से शुरू होंगी और 30 सितम्बर तक चलेंगी | सीबीएसई ने महामारी को मद्दे नजर रखते हुए छात्रों को आश्वाशन दिया है कि सुरक्षा के लिए सभी प्रोसीजर और सावधानियों को बरता जायेगा ताकि सभी परीक्षाएँ सुरक्षापूर्वक पूर्ण हो जाए |

Related Articles

Back to top button
English English हिन्दी हिन्दी