India

SCO Summit 2020 : राजनाथ का चीन पर निशाना, कहा- क्षेत्रीय शांति के लिए आक्रामकता ठीक नहीं

पूर्वी लद्दाख में जारी तनाव के बीच मास्को में होने वाले संघाई सहयोग संगठन (SCO ) की बैठक में हमारे भारतीय रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह वहाँ पहुँचे और उन्होंने वहाँ पर आतंकवाद, शांति और स्थिरता के ऊपर सभी को सम्बोधित किया | उन्होंने अप्रत्यक्ष रूप से चीन और पकिस्तान के हरकतों पर कई बातें भी की और उनके इस कार्य के लिए उनकी निंदा भी की| मई से ही भारत और चीन के बीच सीमा को लेकर मुठभेड़ चल ही रहे हैं और कई बार दोनों देशों की सेनायें एक दूसरे के आमने-सामने भी आ चुकी हैं | इसी मुठभेड़ में जून में हमारे 20 जवान शहीद भी हो गए | राजनाथ सिंह जी ने कहा कि शंघाई सहयोग संगठन क्षेत्र में शांति और स्थिरता के लिए भारत अंतर्राष्ट्रीय मसलों के शांतिपूर्ण समाधान के पक्ष में रहा है और रहेगा | उन्होंने कहा कि शांति, स्थिरता और सुरक्षा के लिए बैठक में सम्मिलित देशों में आपसी विश्वास, मित्रता और संवेदनशीलता का होना बहुत जरुरी है |


चीन और पाकिस्तान पर साधा निशाना

उन्होंने हाल ही में चीन द्वारा लद्दाख सीमा पर होने वाली गतिविधियों पर निशाना साधा और साफ़-साफ़ कहा कि दोनों देशों के बीच विश्वास, गैर-आक्रामकता और संवेदनशीलता होना जरुरी है ताकि आपस में शांति और स्थिरता बनी रहे, जो दोनों ही देशों के लिए हितकारी होगा | पाकिस्तान को भी घेरे में लेते हुए उन्होंने ये कहा कि भारत आतंकवाद और उसका साथ देने वालों की कड़ी निंदा करता है, इसपर पाकिस्तान को अंतर्राष्ट्रीय बैठक में अपने देश में पनपने वाले आतंकवाद और उसे रोकने में असफल होने पर लज्जा का सामना करना पड़ा | आगे उन्होंने ये भी कहा कि भारत वैश्विक सुरक्षा के विकास के लिए प्रतिबद्ध है, भारत इसमें पारदर्शी रूप से सभी देशों के साथ मिलकर अंतर्राष्ट्रीय नियमों का पालन करते हुए इसमें शंघाई सहयोग संगठन के साथ है |

अफ़ग़ानिस्तान और खाड़ी देशों पर चिंता व्यक्त की

राजनाथ सिंह जी ने अफ़ग़ानिस्तान के मौजूदा हालात पर भी अपनी चिंता व्यक्त की और कहा कि शांति की परिक्रिया और नेतृत्व में भारत अफ़ग़ान की सरकार और लोगों का पूरे दिल से समर्थन करता है और करता रहेगा | उन्होंने खाड़ी देशों (पर्शियन गल्फ) क्षेत्रों को लेकर अपनी चिंता व्यक्त कि और कहा भारत सम्मान, सम्प्रभुता और बिना आतंरिक मुद्दों में दखल दिए बातचीत के जरिये सभी देशों को आपसी मतभेदों को निपटाने की अपील करता है | आगे उन्होंने सभी देशों को सम्बोधित करते हुए कहा – कोरोना महामारी ने हमें बहुत बड़ी सीख दी है कि हमें आपसी मतभेदों को भुला देना चाहिए और प्रकृति को कमज़ोर न समझ कर उससे और उससे जुड़े तथ्यों से छेड़छाड़ नहीं करनी चाहिए | अपने इस बयान से राजनाथ सिंह ने सीधा चीन पर निशाना साधा जोकि प्रकृति के साथ छेड़छाड़ करता रहता है और इससे बाज़ नहीं आता है | बता दें इससे पहले अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और कई देश के नेता भी कोरोना महामारी के फ़ैलाने का जिम्मेदार चीन को ठहरा चुके हैं क्योंकि कोरोना की शुरुआत चीन के वुहान शहर से ही हुआ थी |

चीनी रक्षामंत्री से बातचीत की आशाएँ:

हाल ही में चीन के रक्षा मंत्री वेई फेंग्हे (Wei Fenghe) ने भारत के साथ बैठक के लिए अनुरोध किया है, उन्होंने भारतीय रक्षा मंत्री से बैठक के लिए उनका समय माँगा है | समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ राजनाथ सिंह आज शाम को चीनी रक्षा मंत्री से लद्दाख में होने वाले सीमा विवाद के बारे में बात कर सकते हैं |

Related Articles

Back to top button
English English हिन्दी हिन्दी