India

TMC Leader Dinesh Trivedi Resigns From Rajya Sabha Earlier He Had To Resign From Rail Minister In 2012

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव-2021 से पहले तृणमूल कांग्रेस को बड़ा झटका देते हुए पार्टी सांसद दिनेश त्रिवेदी ने शुक्रवार को राज्यसभा सदस्य से इस्तीफे का ऐलान किया. इसका कारण उन्होंने इस्तीफा का ऐलान करते वक्त बंगाल में जमीनी धरातल को बदलने में राज्यसभा सदस्य के तौर पर उनकी सीमित भूमिका को बताया. इस दौरान उन्होंने अपने बयान में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद का भी नाम लिया, और कहा कि वे चाहते हैं कि पश्चिम बंगाल के लिए काम करें, जहां पर वर्तमान में हिंसा प्रत्यक्षदर्शी है.

दिनेश त्रिवेदी के अचानक राज्यसभा से इस्तीफे के इस ऐलान से टीएमसी सुप्रीमो और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को शायद उतनी हैरानी ना हुई हो. उसकी वजह है 9 साल पहले दिनेश त्रिवेदी से रेल मंत्री का पद छोड़ने के लिए ममता बनर्जी की तरफ से दिया गया वो आदेश. इस बात का घुटन दिनेश त्रिवेदी पार्टी में रहते हुए अभी तक महसूस करते आ रहे थे.

दरअसल, जिस वक्त दिनेश त्रिवेदी, मनमोहन सिंह की यूपीए-2 सरकार में रेल मंत्री थी, उन्होंने 14 मार्च 2012 को रेल बजट संसद में पेश किया. इस दौरान उन्होंने पैसेंजर ट्रेन में 2 पैसे से 30 पैस तक प्रति किलोमीटर बढ़ाने का ऐलान किया. उसकी वजह थी कि रेल का यात्री किराया पिछले कई सालों से नहीं बढ़ाया गया था. टीएमसी कोटे से ही दिनेश त्रिवेदी उस वक्त रेल मंत्री बनाए गए थे.

ममता बनर्जी को पार्टी सांसद दिनेश त्रिवेदी की तरफ से अचानक रेल किराया में की गई बढ़ोत्तरी की घोषणा रास नहीं आई. गुस्से में ममता बनर्जी ने उस वक्त के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को पत्र लिखते हुए दिनेश त्रिवेदी को हटाने के लिए कहा और उनकी जगह पर मुकुल रॉय को नया रेल मंत्री बनने का सुझा दिया था. इसके बाद दिनेश त्रिवेदी ने रेल मंत्री के पद से 18 मार्च 2012 को भारी मन से इस्तीफा दे दिया था. जिसकी घुटन वह पार्टी में रहते हुए अब तक महसूस करते आ रहे थे.

ये भी पढ़ें: TMC सांसद ने दिया राज्यसभा से इस्तीफा, सौगत रॉय बोले- दिनेश त्रिवेदी ग्रासरूट नेता नहीं थे, उनका जाना कोई झटका नहीं


Source link

Related Articles

Back to top button
English English हिन्दी हिन्दी