India

प्रधानमन्त्री मोदी ने चीन को दिया फिर से एक और झटका, देश के युवाओं और कारोबारियों से की खिलौना बिज़नेस को बड़े पैमाने पर शुरुआत करने की बात..

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने शनिवार के दिन हुई मीटिंग में के भारत के युवाओं और स्टार्टअप कंपनीज से खिलौने और गेम्स के आत्मनिर्भर भारत कैम्पेन के अंतर्गत इस बिज़नेस को आगे बढ़ाने में अपना योगदान देने की अपील की है. इस बात से हम सब वाकिफ हैं कि किस प्रकार चीन का हमारे देश में खिलौनों के मार्किट में 90 % (10000  करोड़) तक का कब्ज़ा किया हुआ था जो कि किसी भी देश कि अर्थव्यवस्था के लिए बहुत ही बड़ा प्रहार है. इस बात को ही मद्देनज़र रखते हुए हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने भारतीय खिलौने के बिज़नेस को आगे बढ़ाने के लिए अपनी ये बात रखी है क्योंकि हम सब ही जानते कि मौजूदा हालात क्या चल रहे हैं पूरा विश्व चीन कि एक गलती की सजा भुगत रहा है और सभी देशों कि अर्थव्यवस्था चरमरा गयी है. और इतना कुछ होने के बाद भी चीन हमारे देश की सीमा में घुसने की हिम्मत दिखा रहा है, तो ऐसे में उसको करारा जवाब देने का ये सही समय है.

 

शनिवार को हुई इस मीटिंग में प्रधानमंत्री मोदी के साथ श्रीमती स्मृति ईरानी , नितिन गडकरी और अन्य यूनियन मिनिस्टर्स भी मौजूद थे जिनके समक्ष उन्होंने सुझाया कि भारत में खिलौनों के मार्किट का बड़े पैमाने पर विस्तार करना चाहिए क्योंकि आज के समय में ये उद्योग एक क्रान्ति के रूप में उभर कर सामने आ सकता है जिस से अपने देश में रोजगार के नए अवसर मिलेंगे और भारतीय अर्थवयवस्था मजबूत होगी.

उन्होंने यहां तक ​​कहा कि हमारे देश को डिजिटल गेमिंग क्षेत्र में बड़ी संभावनाओं का उपयोग करना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि, हमें केवल अच्छी गुणवत्ता वाले उत्पादों के निर्माण के अलावा खिलौना डिजाइन में नवीनतम तकनीक और नवाचार का उपयोग करने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए। न केवल पीएम बल्कि हम यह भी सोचते हैं कि “एक भारत, श्रेष्ठ भारत” संदेश को बढ़ावा देने का यह सही तरीका है।

यह बैठक का एजेंडा भारत में खिलौना निर्माण को बढ़ावा देने के तरीकों पर चर्चा करना था जिसे हम सभी ने बाद में एक ट्वीट में देखा था। यह खिलौना मार्किट क्षेत्र हमारे देश को आत्मनिर्भर भारत बनाने के सपने को और करीब ले जाएगा इसके साथ ही “Vocal for Local ” को भी बढ़ावा मिलेगा जिस से छोटे कारोबारियों और स्टार्टअप्स को मदद मिलेगी. हम सब को मिलकर इस मुहीम में प्रधानमंत्री मोदी जी का धन्यवाद कहना चाहिए की वो किस तरह से हर क्षेत्र में नयी नयी योजनाएं लाकर रोजगार के नए अवसर प्रदान कर रहे हैं तो हम सभी उनका साथ देते हुए चीन के किसी भी प्रकार के सामान का बहिष्कार करना है.

Related Articles

Back to top button
English English हिन्दी हिन्दी