Coronavirus UpdatesLifestyle

Corona Vaccine in India: ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में बन रही कोरोना वैक्सीन का भारत में परीक्षण दोबारा शुरू होगा

Serum Institute of India (SII) के CEO आदर पूनावाला(Adar Poonawalla) ने ट्वीट के ज़रिये ये जानकारी दी, ट्रायल शुरू होने की तारीख अभी तय नहीं..

कोरोना महामारी में पूरी दुनिया की नजर ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी(Oxford University) में बन रही वैक्सीन पर है जिसका पूरे विश्व को इंतज़ार है | आपको बता दें कि हाल ही में ऑक्सफ़ोर्ड वैक्सीन का वैश्विक प्रशिक्षण रोक दिया गया था, इसका कारण यह था कि कुछ दिनों पहले ट्रायल के दौरान एक मरीज को कुछ दिक्कत आ गयी थी | अस्ट्राजेनेका(AstraZeneca) ने हाल ही में यह कहा कि ट्रायल में शामिल एक महिला के रीढ़ के हड्डी में गंभीर रूप से सूजन आ गयी थी, इसलिए कंपनी की तरफ से ट्रायल को रोकने का फैसला लिया गया था |

लेकिन अच्छी बात यह है कि ब्रिटैन की मेडिकल हेल्थ रेगुलेटरी अथॉरिटी(MHRA) के निर्देशों के आधार पर परीक्षण दोबारा शुरू कर दिया गया है, हालाँकि इसका समय अभी भी नहीं बताया गया है | कंपनी ने यह भी कहा है कि वह दुनियाभर में स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ मिलकर वैक्सीन पर अपना काम जारी रखेगी |

सुरक्षा को लेकर गहराई से मूल्यांकन करती रहेगी

ऑक्सफ़ोर्ड विश्वविद्यालय(Oxford University) ने हाल ही में अपने बयान में कहा कि परीक्षण के लिए करीब 18000 लोगों को यह वैक्सीन दिया गया है | आगे ऑक्सफ़ोर्ड विश्वविद्यालय ने ये भी बताया कि इस तरह के बड़े परीक्षणों में ऐसा माना जाता है कि कुछ लोग अस्वस्थ्य हो सकते है , इसलिए उनकी सुरक्षा का सावधानीपूर्वक मूल्यांकन सुनिश्चित करना जरुरी हो जाता है | साथ ही उन्होंने कहा कि वह अपने अध्ययन में सर्वश्रेष्ठ मानकों को अपनाते हुए वॉलेंटियर्स की सुरक्षा को लेकर चिंतित है और उनकी सुरक्षा को लेकर किसी भी तरह की लापरवाही नहीं बरती जाएगी|

यूके(UK) और चीन(China) के प्रोफेसर ने वैक्सीन पर की चर्चा

हाल ही में यूके की मेडिकल रिसर्च कॉउन्सिल के कार्यकारी अध्यक्ष प्रोफेसर फियोना वाट ने कहा कि किसी भी नयी वैक्सीन को विकसित करने में सुरक्षा का सबसे अधिक महत्व है, इस चीज में जल्दबाजी और लापरवाही घातक साबित हो सकती है | लेकिन यह बात बहुत आश्वस्त करने वाली है कि ऑक्सफ़ोर्ड कोरोना वायरस वैक्सीन का परीक्षण MHRA द्वारा समीक्षा के बाद ही फिर से शुरू कर रहा है |

ये भी पढ़ें- Coronavirus Vaccine: ‘संडे संवाद’ कार्यक्रम में स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कब लॉन्च होगी कोरोना वैक्सीन

हांगकांग(Hong Kong) के चीनी विश्वविद्यालय के प्रोफेसर सियां ग्रिफिथ्स ने भी कहा कि यह काफी अच्छी खबर है कि ऑक्सफ़ोर्ड वैक्सीन परीक्षण फिर से शुरू हो रहा है | जिस प्रकार से वैक्सीन परीक्षण में बाधा आने पर वैक्सीन ट्रायल को रोक दिया गया था, इस से पता चलता है कि वैक्सीन की सुरक्षा को कितना महत्व दिया जा रहा है | आशा है की regulatory अधिकारी डेटा और वैक्सीन सुरक्षा का अध्ययन कर रहे हैं |

डीसीजीआई(DCGI) की अनुमति के बाद ही भारत में परीक्षण शुरू होंगे

आपको बता दें हाल ही में सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडिया (Serum Institute of India) ने कहा है कि वह ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ़ इंडिया (Drug Controller General of India) से अनुमति लेने के बाद ही ऑक्सफ़ोर्ड-अस्ट्राजेनेका(AstraZeneca) कोरोना वैक्सीन का क्लिनिकल परीक्षण को शुरू करेंगे | एसआईआई(SII) के CEO आदर पूनावाला(Adar Poonawalla) ने अपने ट्वीट में कहा कि “परीक्षण पूरी तरह से पूर्ण होने से पहले किसी भी निष्कर्ष पर नहीं जाना चाहिए | हाल की ये घटना एक स्पष्ट उदहारण हैं कि हमें वैक्सीन की प्रक्रिया पर किसी भी तरह का दबाव नहीं डालना चाहिए और चलने वाली प्रक्रिया का अंत तक सम्मान करना चाहिए |” फिलहाल तो हम, आप सभी लोग कोरोना वैक्सीन का इंतजार कर सकते हैं और साथ ही इस कोरोना महामारी से सुरक्षित रहने के लिए हमें खुद ही सभी सुरक्षा प्रोटोकॉल्स का पालन करते रहना होगा |

ये भी पढ़ें-

Related Articles

Back to top button
English English हिन्दी हिन्दी