World

कल्पना चावला (Kalpana Chawla) के नाम पर रखा गया अमेरिकी अंतरिक्षयान (Cygnus) का नाम

29 सितम्बर को भरेगा उड़ान

अमेरिकी हथियार और एयरोस्पेस कंपनी नॉर्थरोप ग्रमैन(Northrop Grumman) ने घोषणा की है कि वह अपने अगले अंतरिक्ष यान का नाम भारतीय मूल की मिशन विशेषज्ञ कल्पना चावला(Kalpana Chawla) के नाम पर रखेगा| आपको बता दें कि कल्पना चावला अंतरिक्ष में जाने वाली पहली भारतीय मूल की महिला थीं| नॉर्थरोप ग्रमैन जो कि अमेरिका के लिए विश्व स्तर पर हथियार और एयरोस्पेस टेक्नोलॉजी(aerospace technology) बनाता है, उसने घोषणा की है कि अपने अगले अंतरिक्षयान सिगनेस(Cygnus) का नाम भारतीय मूल की महिला मिशन विशेषज्ञ कल्पना चावला के नाम पर रखा जायेगा | ये खबर भारतीयों और महिलाओं के लिए काफी प्रेरणादायक है|

कंपनी ने ट्वीट कर बताई बात

कंपनी ने 09.09.2020 को ट्वीट किया, “आज हम कल्पना चावला का(Kalpana Chawla) सम्मान कर रहे हैं, जिन्होंने भारतीय मूल की पहली महिला अंतरिक्षयात्री के तौर पर नासा में इतिहास बनाया था| मानव अंतरिक्षयान में उनके योगदान का दीर्घकालिक प्रभाव रहेगा|”

अंतरिक्षयान का नाम पूर्व अंतरिक्षयात्री कल्पना चावला के नाम पर रखना गर्व – नॉर्थरोप ग्रमैन

आपको बता दें कि कंपनी ने अपने वेबसाइट के ज़रिये बताया कि – ‘नॉर्थरोप ग्रमैन(Northrop Grumman) एनजी-14 सिग्नस(Cygnus) अंतरिक्षयान का नाम पूर्व अंतरिक्षयात्री कल्पना चावला के नाम पर रख कर गर्व महसूस कर रहा है| यह कंपनी की परंपरा है कि वह प्रत्येक सिग्नस का नाम उस व्यक्ति के नाम पर रखता है जिसने मानवयुक्त अंतरिक्षयान में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई है|’

अंतरिक्ष में उड़ान भरने वाली पहली भारतीय महिला तथा दूसरी भारतीय

कल्पना चावला(Kalpana Chawla) भारतीय मूल की अमेरिकी अंतरिक्ष शटल मिशन विशेषज्ञ थीं तथा अंतरिक्ष में उड़ान भरने वाली पहली भारतीय महिला तथा दूसरी भारतीय थीं| उनसे पहले अंतरिक्ष का सफर करने वाले राकेश शर्मा पहले भारतीय हैं जो अंतरिक्ष में भारत की ओर से 1984 में गए थें| आपको बता दें कि कल्पना सबसे पहले एस.टी.एस. 87 कोलम्बिया शटल से 19 नवम्बर 1997 से 5 दिसम्बर 1997 तक अंतरिक्ष में रहीं|

कल्पना चवला की 1 फ़रवरी 2003 को कोलंबिया स्पेस शटल दुर्घटना में मौत हो गयी थी

उनकी दूसरी उड़ान 16 जनवरी 2003 को कोलंबिया स्पेस शटल(Columbia space shuttle) से शुरू हुई जिसमें उन्होंने 15 दिन तक काम किया और 1 फ़रवरी को वापस आते वक़्त उनका विमान पृथ्वी के वातावरण में टूट गया जिसके कारण वो और उनके 6 साथी जल कर ख़ाक हो गये|

कुरुक्षेत्र में एक प्लैनेटेरियम(planetarium) का नाम कल्पना चावला के सम्मान में रखा है

आपको बता दें कि कल्पना को कांग्रेशनल स्पेस मैडल ऑफ़ हॉनर से सम्मानित किया जा चुका है और नासा(NASA) ने उनके नाम से एक सुपर कंप्यूटर भी बनाया है| भारत में उनके नाम से कॉलेज और सॅटॅलाइट(satellite) का भी नाम रखा गया है| उनके सम्मान में कुरुक्षेत्र में हरियाणा सरकार ने गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज और एक प्लैनेटेरियम खोला हुआ है जिसका नाम है कल्पना चावला प्लैनेटेरियम(Kalpana Chawla planetarium) | इन सबके अलावा बहुत सारे इंस्टिट्यूट, कॉलेज और स्ट्रीट का नाम उनके सम्मान में भारत, अमेरिका और दुनिया भर में रखा गया है|

Back to top button
English English हिन्दी हिन्दी